Naye Pallav

Publisher

फैशन इंडस्ट्री : कॅरियर को बनाए स्मार्ट

फैशन डिजाइनिंग को आमतौर पर कॅरियर का एक आॅप्शन भर माना जाता है। जबकि ऐसा नहीं है। दरअसल यह एक ऐसी कला है, जो ड्रेस और एक्सेसरीज की मदद से किसी इंसान की लाइफ स्टाइल को सामने लाती है।
क्या है फैशन डिजाइनिंग
मॉडर्न फैशन के अंतर्गत दो मूल विभाग हैं, पहला वर्ग है वस्त्रों को डिजाइन करना और दूसरा रेडी-टू-वियर अर्थात तैयार पोशाकें। इनमें फैशन डिजाइनिंग का इस्तेमाल प्रथम वर्ग में किया जाता है। वर्तमान में फैशन शो इसी के बूते चल रहे हैं। इन शो के जरिए ही फैशन डिजाइनर्स की सृजनात्मकता और रचनात्मकता का पता चलता है। यदि किसी को टेक्सटाइल पैटर्न, कलर कोडिंग, टेक्सचर आदि का अच्छा ज्ञान हो, तो फैशन डिजाइनिंग को कॅरियर के रूप में अपनाने में उसे बिल्कुल हिचकना नहीं चाहिए। उसकी सफलता में कोई गुंजाइश नहीं रह जाती और उसका नाम फैशन इंडस्ट्री में तहलका मचा सकता है। खासकर भारत जैसे देश में जहाँ के फैशन में पश्चिमी सभ्यता का भी संगम है। और इसी मिलन ने फैशन इंडस्ट्री को एक नयी दिशा और पहचान दी है। फैशन डिजाइनिंग में रंगों के संयोजन और कपड़े के आधार पर उसकी बुनाई का बड़ा महत्व है। एक तरह से ये ही फैशन डिजाइनिंग का सार है। इनकी बदौलत ही लुक्स संभव हो सकते हैं। इसके बाद व्यावसायिक कुशलता, कट, डिजाइन, सहायक सामग्री मिलकर ही पोशाक का मूल स्वरूप तय कर सकते हैं।
मौसम के साथ बदलता है फैशन
यह भी जरूरी है कि इसे पूरी विधि के साथ संपूर्ण किया जाए। प्लान तैयार करके, ब्लू प्रिंट्स ड्रॉ करने के बाद ही फाइनल आउटकम प्राप्त होगा। फैशन डिजाइनिंग का सबसे महत्वपूर्ण पहलू ये है कि फैशन किसी ना किसी थीम पर निर्भर करता है। जैसे – मौसम, लोगों की पसंद आदि। अगर आपने गौर किया हो तो फैशन प्रमुखतः मौसम के अनुसार होता है। उदाहरण के लिए सर्दी में आपको उसी के अनुरूप रंग और फैब्रिक देखने को मिलेगा। इसके साथ ही ऊनी कपड़े, पोलो नेक, नीले और ब्राउन देखने को मिलेंगे। इसके विपरीत गर्मियों में आपको कैजुअल, कॉटन और सफेद रंग मिलेंगे।

क्या है इन, क्या है आउट !
फैशन कभी भी स्थाई नहीं होता है। समय के साथ इसमें परिवर्तन होते रहते हैं। स्पेगेटी का फैशन गया और अब हॉल्टर नेक्स चल रहे हैं। स्कर्ट चलन में हैं और पैंट-सूट्स का दौर जा चुका है। इसीलिए परिवर्तन की गति को देखते हुए, इस फील्ड में आने वाले हर इंसान को चैकन्ना रहना होगा और इस बात के लिए कि क्या पहना जाना चाहिए और क्या नहीं ? फैशन का प्रमुख केंद्र सेलिब्रिटीज, सोशलाइट्स, मॉडल्स आदि रहे हैं।
चुनौती भी कम नहीं
कुल मिलाकर फैशन डिजाइनिंग बहुत ही चुनौती भरा और ग्लैमर से भरपूर व्यवसाय है, जिसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजन होते हैं। जैसे – आईएमजी फैशन वीक, लक्मे फैशन वीक आदि, बहुत से फैशन डिजाइनिंग इंस्टीट्यूट जैसे – नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नालॉजी, सोफिया पॉलिटेक्निक आदि। फैशन की दुनिया में पहचान बनाना चाहते हैं तो किसी इंस्टीट्यूट से पढ़ाई करने के साथ एक्पर्ट की दी हुई सलाह का भी खास ख्याल रखें। ये सलाह आपको फैशन की दुनिया में नया मुकाम दिलाएगी।
बदलतेे ट्रेंड को पहचानें
ट्रेंड तेजी से बदलते हैं. इसलिए अगर आप अपने काम में सजग नहीं हैं और बाजार पर बराबर नजर नहीं बनाए हुए हैं तो जल्दी ही पाएंगे कि आप इस खेल से बाहर हो चुके हैं। इसलिए जरूरी है कि आप सबसे पहले बाजार को जानें और फिर ग्राहक को। अपने क्षेत्र में होने वाले तकनीकी प्रगति से भी अच्छी तरह वाकिफ रहें। साथ ही उसके अंदर इन रुझानों का विश्लेषण करने की क्षमता भी होनी चाहिए। आज जो फैशन चलन में है, जरूरी नहीं कि वह कल भी स्टोरों में कायम रहे। …और बड़ी बात यह है कि आजकल बाजार की मांग धीरे-धीरे नहीं बदलती है, वह एकाएक गायब हो जाती है। अगर एक दिन स्ट्राइप चलन में है, तो हो सकता है अगले दिन कलर नियॉन का फैशन चल निकले और अगले हफ्ते न्यूड स्वेटर फैशन में आ जाएं। इसी तरह कुछ ही समय में लेदर पैंटों की मांग शुरू हो जाती है। आपको हर समय इस प्रगति के हिसाब से खुद को अपडेट रखने की जरूरत है कि पारंपरिक तकनीक और तरीकों में किस तरह दिनोंदिन बदलाव आ रहा है। बहुत से स्टूडेंट यह मान लेने की गलती करते हैं कि फैंटेसी या कल्पनाओं को साकार रूप देना ही फैशन है। उन्हें समझना चाहिए कि यह एक उद्योग है और हर उद्योग की तरह इसमें भी उद्योग का रिसर्च और खिलाड़ियों तथा इससे जुड़े अन्य लोगों के बारे में गहराई से जानकारी रखना जरूरी है।
कड़ी मेहनत जरूरी
फैशन उद्योग में विशिष्ट और साधारण होने के बीच सबसे बड़ा फर्क है नकल या किसी के कहने के अनुसार काम करना। अगर आप अपना काम किसी दूसरे के कहने के अनुसार करेंगे, किसी डिजाइन की नकल करेंगे और खुद सोचना बंद कर देंगे, तो आपके काम को हजारों दूसरे कलाकारों के काम से अलग कैसे किया जा सकता है, यानी आपका काम बाकियों जैसा ही नजर आएगा। एक सफल उद्यमी होने की योग्यता का मतलब है कि आप पहले से बनी-बनाई सीमा से बाहर निकलें और कॉर्पोरेट के आदेशों पर आंखें मूंदकर न चलें।
खुद पर रखें भरोसा
चाहे निजी उद्यम शुरू करना हो या कॉलेज में किसी प्रोजेक्ट पर काम करना हो, डिजाइनरों को अपने काम में पर्याप्त आत्मविश्वास रखना चाहिए और जरूरत पड़े तो उस काम को लोगों के सामने रखने की हिम्मत दिखानी चाहिए। जोखिम उठाने का साहस दिखाना एक अंदरूनी गुण है, जिसके बारे में सिर्फ बात ही की जा सकती है, लेकिन उसे फैशन स्कूल में कभी सिखाया नहीं जा सकता है।
जोखिम से पीछे न रहें
अंततः यह आप पर निर्भर करता है कि आप कितनी दूर जाने या जोखिम उठाने की हिम्मत दिखा पाते हैं और अपना मकसद पूरा करने के लिए कितनी दृढ़ इच्छा शक्ति रखते हैं। फैशन उद्योग में कदम रख रहे युवा डिजाइनरों को पहला रैंप वॉक हासिल करने या सेलेब्रिटी क्लाइंट के लिए काम करते वक्त कभी भी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। कारोबार के लिए पूंजी की व्यवस्था करना और उद्योग की राजनीति से निबटना पहली बार में मुश्किल लग सकता है, पर याद रखें कि यह ऐसा क्षेत्र है, जहां कई बेहतरीन डिजाइनर खुद भी ऐसा अनुभव कर चुके हैं। अपनी सीमाओं में रहकर काम करना ठीक है, कभी-कभी अपनी सीमाओं को आगे बढ़ाने से कतई न डरें।
मार्केट रिसर्च पर ध्यान दें
अगर आप सोचते हैं कि डिजाइनर अपनी ही दुनिया में सिमटकर सफल हो सकते हैं और उन्हें अखबार पढ़ने या शाम को टेलीविजन पर खबर देखने की जरूरत नहीं है, तो आप गलत हैं। हर डिजाइनर के लिए यह जरूरी है कि वह बाजार में चल रहे रुझानों, उसकी अर्थव्यवस्था और सांस्कृतिक ट्रेंड तथा राजनैतिक परिदृश्य से अच्छी तरह परिचित रहे। हर सफल डिजाइनर को देशी और विदेशी बाजार की हलचल और रुझान से वाकिफ होना चाहिए।
रोजमर्रा के काम से करें प्यार
आपको अपने काम से प्यार होना चाहिए, तभी आप यह उम्मीद कर सकते हैं कि दूसरा शख्स आपके काम को पसंद करेगा। आपके काम में कुछ चैंकाने वाली या हतप्रभ करने वाली बात होनी चाहिए, वरना आपका काम बाकियों की तरह साधारण परिधान बनकर रह जाएगा। उसमें कुछ भी नया आकर्षण नहीं होगा। यह चैंकाने वाली बात तभी आती है, जब आप जो कुछ कर रहे हैं, वह आपको भी मोह ले और पूरे दिल से उसे तैयार करें। आपको अपने काम की क्वालिटी के साथ किसी तरह का समझौता नहीं करना चाहिए।
सर्वोत्तम से लें सबक
फैशन के स्टूडेंट आम तौर पर यह गलती करते हैं कि वे खुद को समय से पहले ही परिपक्व और सबसे ज्यादा जानकार समझने लगते हैं, जबकि वे यथार्थवादी बनकर इस भ्रम से आसानी से दूर रह सकते हैं। अगर आप इस उद्योग में पांच साल से कम समय से हैं, तो आपके लिए अच्छा होगा कि आप अपना अहं अपने काबू में रखें और अपने सीनियर की सलाह को ध्यान से सुनें। आत्मविश्वास अच्छी बात है, लेकिन अति-आत्मविश्वास खतरनाक होता है, जो स्वयं का ही नुकसान करता है और कॅरियर के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।
डिग्री के अनुभव भी बढ़ाएं
फैशन स्कूल से पढ़ाई कर लेने का मतलब यह नहीं है कि अब आपको कुछ भी सीखने की जरूरत नहीं है। उलटे यह सीखने की शुरुआत है। दूसरों के अनुभवों से सीखना बहुत जरूरी है, खासकर शुरुआत के कुछ वर्षों में। आपको सीनियर डिजाइनरों, कारीगरों और शिल्पकारों के पास जाकर हमेशा कुछ न कुछ सीखने के लिए तैयार रहना चाहिए। आपको मालूम करना चाहिए कि सफल लोगों ने सफलता कैसे हासिल की और अपना काम शुरू करने की राह में आने वाली चुनौतियों का सामना कैसे किया। आपको अपने अंदर सुनने और अपने से सीनियरों के काम को गौर से देखने का गुण पैदा करना चाहिए। आप उनके अनुभवों का फायदा उठाकर आगे बढ़ सकते हैं।
मटीरियल को जानें
लेदर, लेस, फर, कॉटन या सिल्क ! फैशन के स्टूडेंट अक्सर एक पूरा सेमेस्टर विभिन्न तरह के कपड़ों की पहचान करने में ही निकाल देते हैं। अगर वे यह सीख भी जाएं कि फलां कपड़ा किस तरह का है और उसे पहचानने में कोई गलती न करें लेकिन वे यह नहीं बता पाएंगे कि यह कपड़ा कहां से आता है और और इसे बनाता कौन है। बाजार में उपलब्ध अलग-अलग तरह के कपड़ों और फैशन से संबंधित जरूरी सामग्री की पहचान करना ही काफी नहीं है। स्टूडेंट्स को यह भी मालूम होना चाहिए कि उसे बनाने की प्रक्रिया क्या है और उसका उत्पादन कैसे होता है।
कपड़ों के बारे में गहराई से जानने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि उसके पूरे सफर के बारे में जानकारी जुटाई जाए। प्रैक्टिकल अनुभव बहुत काम आता है। कपड़ों और दूसरी जरूरी सामग्री के बारे में गहराई से जानकारी रखने से न सिर्फ आप अपने डिजाइन के लिए सही कपड़े और सामग्री का चुनाव कर सकते हैं, बल्कि आप उसके इतिहास और सांस्कृतिक महत्व के बारे में भी जानकारी रख सकते हैं, जो आपको अतिरिक्त आत्मविश्वास देता है।

One thought on “फैशन इंडस्ट्री : कॅरियर को बनाए स्मार्ट

  1. Like!! I blog frequently and I really thank you for your content. The article has truly peaked my interest.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Get
Your
Book
Published
C
O
N
T
A
C
T