Naye Pallav

Publisher

पत्नी ने मारा बेलन

हरि प्रकाश गुप्ता

नये पल्लव 11 अंक से

पत्नी ने जैसे ही मुझे बेलन मारा
सिर पर पड़ा और
फूट गया सर हमारा
बेलन की मार मैं समझ न पाया
पूछने की हिम्मत न कर पाया
उसके तेबर को देख
मैं कुछ समझ न पाया
तभी हमारे व्हाट्सएप्प पर
एक संदेश आया
कहो बेटा, क्या हाल है ?
यह तेरा बुरा साल है !

अभी भी सुधर जाओ
नजरें अपनी यहां-वहां न लगाओ
वरना आज तो टेलर दिखाया है
बेलन ही तो सर पर सजाया है
वरना चलने लायक नहीं रह पाओगे
बीवी से और भी मार खाओगे
संदेश में जो मोबाइल नंबर पाया
बीवी के भाई के नंबर से
वह संदेश आया।

जल ही जीवन

जल ही जीवन
जल का नहीं कोई मोल
यह है अनमोल।
सूख रहे हैं ताल तलैया
कुआं और तालाब भी
नहीं बच रहा जल
नदियां सूखीं
ट्यूबवैल में भी नहीं रहा अब जल।
नहीं है इसका कोई विकल्प
बचा सकें तो बचा लें हम सब
बर्बाद न करें जल
जल ही जीवन
जल का नहीं …।
बिना जल प्यास न बुझती
चाहिए सभी को जल
पानी बचाओ, पानी बचाओ
न करो इससे बर्बाद
तुम भी रहो, हम भी रहें
सब मिलकर हों आबाद
जल ही जीवन
जल का नहीं …।

पता : स्मृति नगर, भिलाई, जिला-दुर्ग, छत्तीसगढ़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Get
Your
Book
Published
C
O
N
T
A
C
T