Naye Pallav

Publisher

बाहर न जाओ

हरि प्रकाश

समझो और सभी को समझाओ
घर के अंदर रहो
बाहर न जाओ
21 दिनों की बात है
कुछ तो संभल जाओ
कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा
न इसे गले लगाओ
समझो और सभी को समझाओ
घर के अंदर रहो
बाहर न जाओ
मतलब सीधा सच्चा है
साथ साथ रहो न,
न हाथ मिलाओ
एक मीटर की दूरी रखकर
छींकों से सभी को बचाओ
‘जनता कफ्र्यू’ को सफल बनाकर
कोरोना‌ वायरस को जड़ से मिटाओ
समझो और सभी को समझाओ
घर के अंदर रहो
बाहर न जाओ।

ये क्या हो गया
हे मेरे भगवान
ये क्या हो गया
शांति भंग हो गई
जब से कोरोना वायरस
आ गया
कैसा ये मनहूस वायरस है
बढ़ता ही जा रहा
उपाय कोई भी न काम
आ रहा
जनता को घर में रहने के लिए
समझाया जा रहा
फिर भी न कोई समझ पा रहा
कैसी ये संकट की घड़ी है
मौत बिल्कुल सामने खड़ी है
फिर भी लोग घर से निकल रहे
संकट सामने विकट
फिर भी नहीं समझ रहे
हे मेरे भगवान
ये क्या हो गया
शांति भंग हो गई
जब से कोरोना वायरस
आ गया।
सारा शाशन लगा हुआ समझाने में
बाहर न निकलो
रहो घर के आंगन में
क्या रखा है अभी सड़कों और बाग बगीचों में
न जाने पनप रहा कोरोना किसकी छींकों में
अब तो छींकों से भी लगता है डर
बंद रहना ही बेहतर घर के अंदर
जनता कर्फ्यू सबसे उत्तम दबाई है
मुसीबत की घड़ी आई है
मिलकर सभी चलो
कोरोना को जड़ से मिटाने में
21दिनों को लोक-आउट हुआ
कोरोना वायरस से बचाने का
सहयोग बहुत जरूरी है
जनता का
पल पल मुश्किल बढ़ती जा रही
दबाई कोई नहीं काम आ रही
उपाय सिर्फ एक ही
घर में बंद रहने का
नहीं समय अब आपस में मिलने का
शाशन मांग रहा है सहयोग
आज आपसे
शाशन का सहयोग करें
घर से बाहर नहीं निकलेंगे
सभी बादा करें
कर रहे हैं आज आपसे निवेदन
प्रधानमंत्री हाथ जोड़कर
जीवन बहुत अनमोल सभी का
न इसे व्यर्थ जाने दें
घर के अंदर खुद भी रहे
और सभी को रहने दें
रंख देंगे सभी कोरोना वायरस की
कमर तोड़कर
हे मेरे भगवान
ये क्या हो गया
शांति भंग हो गई
जब से कोरोना वायरस
आ गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Get
Your
Book
Published
C
O
N
T
A
C
T