Naye Pallav

Publisher

मैं और तुम

ऋचा प्रियदर्शिनी

नये पल्लव 11 अंक से

एक किताब सी मैं
एक कहानी से तुम
एक सुमन सी मैं
और परिमल से तुम

मैं और तुम अटूट,
अविभक्त, अपृथक
अभिन्न, एकरूप
सम्पूर्ण, नहीं पृथक

मेरे जीवन की पुस्तक में
कहानी तेरे नाम की
प्रथम पृष्ठ भी तुझसे
आखिरी तेरे नाम की !

पेड़ और लता

सुदृढ़ तने से आबद्ध लता
सहज लिपटी सी कोमलता
सानिध्य में फूलती फलती
सुरम्य उनकी सातत्यता

नव कोंपल तन पर मुस्काए
बल खाती डालियाँ इठलाए
किसलय, कलियाँ और कुसुम
पवन झकोरे संग झूमे गाए

प्रकृति की सौगात अद्वितीय
लता वृक्ष का मेल शोभनीय
प्रतीत होते दो तन एक प्राण
संयोग उनका अविभाजिय !

पता : 151, Kalpkriti Parisar, Awadhpuri Risali, Bhilai, Durg, Chhattisgarh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Get
Your
Book
Published
C
O
N
T
A
C
T