Naye Pallav

Publisher

पत्थर की नारी

शुभी मिश्रा

मोड़ा है रूख इस तरह जिन्दगी ने
कि सोचने का मौका भी ना दिया
खामोशी छाई है लब्जों पे इस कदर
दिल ने भी अपनाना छोड़ दिया।

सही होकर भी चुप बैठे हैं हम
ऊगलियां उठ रही हैं कितनी मुझपे
जवाब देने को भी सोच में पड़ गये
मेरी सोच भी अब सवाल कर रही है
सही होने का सबूत मांग रही है।

मेरे अपने भी खड़े हैं मेरे खिलाफ
मैं गैरों को क्या कहूं ?
गैर शब्दों से चोट पहुंचा रहे
अपने तो निगाहों से गिरा रहे हैं।

कोई पूछता नहीं मुझसे क्या हुआ था ?
मैं गलत थी या वो सही था !
जो सोचा सबने शायद वो सही है
मैं सही होकर भी आज फिर गलत हूं।

लड़की हूं तो बोल नहीं सकती
अपने दर्दों पे रो नहीं सकती
आंसू आकर भी सूख जाते हैं मेरे
मैं अपने लिए लड़ नहीं सकती।

शिकायत है मुझे उस खुदा से
जिसने बनाया काया नारी की
बनाना ही था तो पत्थर का बनाता
और मोम सा हृदय ना देता।

अगर लगाती गुहार …
तो क्षण भर में कुचल दी जाती मैं
भरती अगर बुलंद आवाज …
तो लग जाते लाज पर दाग
अपने नाजुक दिल पर कितना बोझ उठाती ?

अगर बनाते पत्थर की नारी
तो सुख-दुख से वंचित रहती
अपने आंचल को अश्कों से ना भिगोती
हे ईश्वर ! बनाई होती पत्थर की नारी।

पता : Hydel Colony, Near Saraswati Vidya Mandir, Vivekanand Nagar, Sultanpur, UP

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Get
Your
Book
Published
C
O
N
T
A
C
T